अब इतना भी मत सोचो

कुछ करने से पहले ये मत सोचो
कि कोई क्या सोचेगा
कुछ करने के बाद ये मत सोचो
कि किसी ने क्या सोचा होगा

क्योंकि ना तुम उन‌ जैसा सोच पाओगे
ना वो तुम जैसा सोच पाएंगे
क्योंकि अगर तुम उन जैसा सोचोगे
तो तुम जैसा कौन सोचेगा
और अगर सोच बदलेगी नहीं
तो कुछ हटके कैसे होगा

और एक बात अगर‌ हम ये सोच पाते कि वो‌ क्या सोचेंगे
तो ये सोचने की जरूरत ही नहीं होती
      ” कि लोग क्या सोचेंगे “

तो तुम ये सोचो कि अच्छा कैसे सोचूं
और ज्यादा सोचने का काम लोगों की सोच पर छोड़ दो

क्योंकि उनको तो सोचना ही है
कुछ सोचेंगे ” वाह! क्या बढ़िया सोचा है “
और कुछ सोचेंगे ” कैसी बेतुकी सोच है “

तो उनके बारे में सोचना छोड़ो और
किसी की भलाई का सोचो
अपनी उन्नति का सोचो
देश की प्रगति का सोचो

क्योंकि सोचेगा इंडिया तभी करेगा इंडिया
और करेगा इंडिया तभी तो बढ़ेगा इंडिया

तो सोच बदलो देश बदलेगा

और लोग क्या सोचेंगे ये लोगों को सोचने दो
अपनी सोच और वक्त लोगों की सोच पर मत बिगाड़ो
अभी मैंने भी बहुत सोच लिया तो अब सोचती हूं
बाकि का सोचने का काम आपकी सोच पर छोड़ दूं

6 thoughts on “अब इतना भी मत सोचो

  1. Guten Tag

    In Gedanken
    allein besteht
    die Gefahr

    sich dem Urgrund
    der Seele
    zu entfernen
    sich selbst
    zu überschätzen

    Herzliche Grüße
    Hans Gamma

    ***

    अच्छा दिन

    विचारों में
    अकेला मौजूद है
    खतरा

    स्रोत के लिए
    आत्मा
    हटाना
    स्वयं
    से अधिक की सराहना करने के
    अधिक से
    क्या एक
    एक इंसान के रूप में
    वास्तविकता में है

    सधन्यवाद
    हंस गामा

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s